what is Trading and Types of Trading in Stock Market

ट्रेडिंग क्या है और स्टॉक मार्किट में ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है(what is Trading and Types of Trading in Stock Market)

स्टॉक मार्किट में ट्रेडिंग (what is trading) को आसान शब्दों में समझें तो ट्रेडिंग का मतलब होता है “व्यापार” जैसे व्यापार में हम किसी भी वस्तु या चीज को खरीदते और भेजते हैं ठीक वैसे ही स्टॉक मार्केट की ट्रेडिंग में भी अलग-अलग कंपनियों के शेयर को खरीदा और बेचा जाता है। यह ठीक वैसे ही है जैसे हम सब्जी मंडी में सब्जी को खरीदते और बेचते हैं मान लीजिए हमने कोई वस्तु ₹10 की खरीदी और उसे ₹20 में बेच दिया इस तरह हमें ₹10 का मुनाफा हुआ वहीं अगर हम ₹10 की खरीदी हुई चीज ₹8 में बेचते हैं तो हमें ₹2 का नुकसान हुआ। शेयर मार्केट में ट्रेडिंग भी इसी नियम पर काम करती है इसमें हम अलग-अलग कंपनियों के शेयर खरीदते हुए बेचते हैं और पैसा कमाते हैं। शेयर मार्किट में ट्रेडिंग के लिए सबसे पहले Demat account होना चाइये। मान लीजिए आपने किसी कंपनी के शेयर को ₹100 में खरीदा और उसे अपने ₹110 में बेच दिया तो आपको ₹10 का मुनाफा हुआ।वहीं अगर आप इसे ₹90 में बेचते हैं तो आपको ₹10 का घाटा या नुकसान होगा। अब आप यह तो समझ चुके है की स्टॉक मार्किट में ट्रेडिंग क्या होती है।(what is Trading in Stock Market) अगर आप घर बैठे अपना Demat account खोलना चाहते है तो Zerodha से अपना फ्री Demat account खोल सकते है। अब समझते है स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है।




IPO क्या है 

Penny Stocks क्या है क्या इन्हे खरीदना चाइए 

स्टॉक मार्किट में ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है?(Types of Trading in Stock market)

स्टॉक मार्किट में ट्रेडिंग मुख्यत चार प्रकार की होती है:-

  1. Intraday Trading
  2. Scalping Trading
  3. Swing Trading
  4. Positional Trading

Intraday Trading

जैसा की आप सब जानते हैं कि कि स्टॉक मार्केट सुबह 9:15 पर खुलती है और दोपहर 3:30 पर बंद होती है। अगर हम कीसी  भी कंपनी के स्टॉक को इस Time Period के बीच में खरीदे और बेचते हैं तो उसे कहा जाता है इंट्राडे ट्रेडिंग। इंट्राडे ट्रेडिंग की खास बात यह है कि इसमें कम समय और कम पैसा लगा कर ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है। बहुत सी brokerage Companies इंट्राडे ट्रेडिंग में ट्रेडर्स को Margin money भी provide करती है। Margin money का मतलब है मान लीजिए अगर आपके पास आपके डिमैट अकाउंट में दस हज़ार रूपए है और आपका ब्रोकर अगर आपको 5 गुना तक मार्जिन मनी देता है तो आप उस दिन के लिए पचास हज़ार तक की ट्रेडिंग कर सकते हैं। अलग-अलग Brokerage Companies अलग-अलग मार्जिन मनी प्रोवाइड करते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग मुख्य रूप से उन ट्रेडर्स के लिए सही रहती है जिन्हें काफी सालों का स्टॉक मार्केट का एक्सपीरियंस है। जिनकी फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस में अच्छी पकड़ होती है और वो कैंडल चार्ट को अचे से समझ पाते है। अगर आप नए ट्रेडर है तो हम आपको राय देते हैं कि आप इस तरह के ट्रेडिंग से दूर रहें। आप पहले चार्ट को अच्छे से समझना सिख ले उसके बाद ही इंट्राडे में ट्रेडिंग करे।

Scalping Trading

Scalping Trading महज  कुछ सेकेंड से कुछ मिनटों की होती है। इस तरह की ट्रेडिंग में स्टॉक्स को कुछ सेकेंड या मिनट्स के अंदर अंदर खरीदा और बेच दिया जाता है। इस तरह की ट्रेडिंग में स्टॉक मार्केट के ट्रेंड को समझते हुए ट्रेडिंग को कुछ सेकंड के भीतर भीतर ही पूरा कर लिया जाता है। scalping trading में intraday trading की तरह ही टेक्निकल एनालिसिस और चार्ट को समझने का ज्ञान होना बहुत जरूरी है। अगर आप टेक्निकल एनालिसिस और कैंडल चार्ट को अच्छी तरह नहीं समझते तो यहां आपको मुनाफा होने की जगह भारी भरकम नुकसान हो सकता है। Scalping trading में intraday trading की तुलना में ज्यादा जोखिम होता है।

Swing Trading

स्विंग ट्रेडिंग में स्टॉक को  कुछ दिनों या कुछ महीनों के लिए खरीद कर रख लिया जाता है और जैसे ही उसका भाव ऊपर जाता है उसे बेचकर मुनाफा कमाया जाता है। Swing Tarding ऊपर की दोनों ट्रेडिंग से कहीं ज्यादा सुरक्षित मानी जाती है क्योंकि इसमें  दोनों ट्रेडिंग की तुलना में नुकसान होने के chances बहुत कम होते हैं। स्विंग ट्रेडिंग की सबसे अच्छी बात बात यह है इसमें आपको दिन भर स्क्रीन पर चार्ट को देखना नहीं पड़ता। इस तरह की ट्रेडिंग कॉलेज जाने वाले स्टूडेंट्स या जॉब करने वालों के लिए परफेक्ट होती हैं जिनके पास दिनभर स्क्रीन पर चार्ट देखने का समय नहीं होता। स्विंग ट्रेडिंग में ब्रोकर द्वारा आपको किसी भी तरह की मार्जिन मनी नहीं मिलती।

Positional Trading

पोजीशनल ट्रेडिंग में स्टॉक्स को खरीद कर लंबे समय तक रखा जाता है यह अवधि कई महीने या फिर कई साल भी हो सकती है। Long Term Trading सबसे सुरक्षित और सबसे ज्यादा मुनाफा देने वाली ट्रेडिंग होती है। अगर आपको जबरदस्त पैसा कमाना है तो positional Tarding सबसे Best होती है। लम्बे समय तक स्टॉक्स को खरीद कर रखने वालो को इन्वेस्टर्स बोला जाता है और short Term के लिए जो लोग stocks को खरीदते है उन्हें ट्रेडर्स कहा जाता है।

Raj Kakkar

Raj is a Trader & Blogger by Passion. He loves to spread the information that helps to learn new skills...<a href="http://www.iamrajkakkar.com">Let's Succeed Together</a>

Leave a Reply

Your email address will not be published.